मोदी सरकार ने अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय का बदल दिया नाम नई शिक्षा नीति को मंजूरी।

मोदी सरकार ने अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय का बदल दिया नाम नई शिक्षा नीति को मंजूरी।

हेलो फ्रेंड आप सभी का स्वागत है आपके अपने ब्लॉग hytechsin.com में  फ्रेंड आज के पोस्ट में मैं आप सभी के लिए हमारे प्रधानमंत्री द्वारा शिक्षा में जो भी बदलाव आ रहे हैं और जो भी फैसला लिया जा रहा है उसके बारे में बताने वाला हूं आप सभी को आज के इस पोस्ट में ।मैं बताने वाला हूं कि किस तरह से हमारे शिक्षा में परिवर्तन किया जा रहा है फ्रेंड यह हमारे लिए बहुत ही अच्छा है कि हमारे बारे में और हमारे शिक्षा के बारे में इतना सोचा जा रहा है तो फ्रेंड अगर आप जानना चाहते हैं  कि हमारे प्रधानमंत्री द्वारा लिया गया यह नया फैसला क्या है तो मेरे इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़े तभी आप समझ पाएंगे कि आखिर प्रधानमंत्री द्वारा लिया गया ऐसा कौन सा फैसला है जो हमारे शिक्षा में परिवर्तन लाने वाला है तो चलिए फ्रेंड मैं आपको आगे बताता हूं कि हमारे शिक्षा को लेकर क्या फैसला  किया गया है और इसमें क्या नई परिवर्तन होने वाली है।



शिक्षा मंत्रालय ने उच्च शिक्षा के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी " नेशनल हायर एजुकेशन रेगुलेटरी अथॉरिटी हायर एजुकेशन कमिशन ऑफ इंडिया तय किया है राष्ट्रीय शिक्षा नीति का निर्माण 1986 में किया गया था और 1992 में इसमें कुछ बदलाव किए गए थे।

केंद्र के मोदी सरकार ने अब मोदी सरकार ने अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया है केंद्रीय कैबिनेट ने बुधवार की बैठक के दौरान इसकी मंजूरी दी है सरकार की ओर से इसकी विस्तृत जानकारी शाम 4 बजे कैबिनेट ब्रीफिंग में देगी।

जानकारी के मुताबिक मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने ही प्रस्ताव दिया था कि मंत्रालय का मौजूदा नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया जाए इस प्रस्ताव पर मोदी कैबिनेट ने मुहर लगाई है इसके साथ ही साथ नई शिक्षा नीति को भी मंजूरी दे दी गई है अब पूरे उच्च शिक्षा क्षेत्र के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी होगी ताकि शिक्षा क्षेत्र में अव्यवस्था को खत्म किया जा सके किया जा सके।


शिक्षा मंत्रालय ने उच्च शिक्षा के लिए एक ही रेगुलेटरी बॉडी नेशनल हायर एजुकेशन नेशनल अथॉरिटी एच ए आर ए आर ए या हायर एजुकेशन कमिशन ऑफ इंडिया तय किया गया है राष्ट्रीय शिक्षा नीति का निर्माण 1986 में किया गया था और 1992 में इसमें कुछ बदलाव किए गए थे।

केंद्रीय सरकार का यह मानना है कि शिक्षा के क्षेत्र में बड़े स्तर पर बदलाव की जरूरत है ताकि भारत दुनिया में ज्ञान का सुपर पावर हमेशा बना रहे इसके लिए सभी को अच्छे क्वालिटी की शिक्षा देने जाने की जरूरत है ताकि एक प्रगतिशील गतिमान समाज बनाया जा सके।

शिक्षा मंत्रालय का प्राथमिक स्तर पर दी जाने वाली शिक्षा की क्वालिटी को सुधारने के लिए एक नए राष्ट्रीय पाठ्यक्रम का  फ्रेमवर्क तैयार करने पर जोर है इस फ्रेमवर्क में अलग-अलग भाषाओं का ज्ञान 21वीं सदी के कौशल कोर्स में खेल कला और वातावरण जैसे विषयों से जुड़े मुद्दे भी शामिल किए जाएंगे।

कस्तूरीरगं की अध्यक्षता वाली समिति ने सौंपा था ड्राफ्ट।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो के पूर्व अध्यक्ष के कस्तूरी रंगन की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले वर्ष मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को नई शिक्षा नीति का मसौदा सौंपा था इस दौरान ही मुझे अपने मंत्रालय का कार्यभार संभाला था।

नई शिक्षा नीति के मसौदे को विभिन्न प्रकारों की राय के लिए सार्वजनिक किया गया था और मंत्रालय को इस पर 2 लाख से अधिक सुझाव प्राप्त हुए।

तब स्मृति ईरानी थी MHRD  मंत्री ।

मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया नीति के मसौदे को मंजूरी मिल गई है मंत्रालय का पुनः नामकरण शिक्षा मंत्रालय किया गया है गौरतलब है कि वर्तमान शिक्षा नीति 1986 में तैयार की गई थी और इसे 1992 में संशोधित किया गया था नई शिक्षा नीति का विषय 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी की चुनावी घोषणा पत्र में शामिल था सौदा तैयार करने वाले विशेषज्ञों ने पूर्व कैबिनेट सचिव टीएसआर सुव्रमणयम के नेतृत्व वाली समिति द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट पर भी विचार किया इस समिति का गठन मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तब किया था जब मंत्रालय का जिम्मा स्मृति ईरानी के पास था।

हेलो फ्रेंड मैं उम्मीद करता हूं कि आप सभी को मेरा आज का यह पोस्ट पसंद आया होगा फ्रेंड अब तो आप सब जान ही गए होंगे हमारे प्रधानमंत्री द्वारा लिया गया कौन सा फैसला है जो हमारी शिक्षा में परिवर्तन लाने वाला है जी हा फ्रेंड जो आप सोच रहे हैं वह बिल्कुल सही है हमारे शिक्षा में बहुत ज्यादा परिवर्तन होने वाला है ।

फ्रेंड अगर आपको मेरी पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों में शेयर करे और इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर करें ताकि जिन लोगों को नहीं पता है इन सारी खबरों के बारे में वह भी जान सके। और अगर आपको किसी प्रकार का कोई प्रश्न पूछना है तो आप मुझे कमेंट जरूर करें मैं आपके प्रश्नों का जल्द से जल्द जवाब देने का प्रयास करूंगा।

Post a Comment

0 Comments